15 49.0138 8.38624 1 1 4000 1 http://www.amulyavachan.com 300
Author / Jharna Varshney
Shri Ganesh Aarti

Shri Ganesh ji Aarti

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा। माता जाकी पार्वती पिता महादेवा एकदन्त दयावन्त चारभुजाधारी माथे पर तिलक सोहे, मूसे की सवारी पान चढ़े फूल चढ़े और चढ़े मेवा लड्डुअन का भोग लगे सन्त करे सेवा जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा। माता जाकी पार्वती पिता महादेवा अँधे को आँख देत कोढ़िन को काया...CONTINUE READING
Share:
Category:aartiyan

धर्मग्रंथो से शिक्षा

एक समय एक बहुत महात्मा और ज्ञानी पुरुष थे। वह प्रायः अपने शिष्यों को रामायण, महाभारत और नीति ग्रंथो की अच्छी बातें बताकर उन्हें आचरण में उतारने का आग्रह करते थे। वह रोज़ संध्या करके प्रवचन करते और श्रावकों को इन धर्मग्रंथों की कथाएं एवं दृष्टान्त सुनाकर उनको सद्गुणी बनाने का प्रयास करते थे। महात्मा...CONTINUE READING
Share:
Category:hindi, Moral Stories