15 49.0138 8.38624 1 1 4000 1 http://www.amulyavachan.com 300

भले ही लड़ लेना-झगड़ लेना,

भले ही लड़ लेना – झगड़ लेना,
पिट जाना – पीट देना,
मगर बोल – चाल बंद मत करना।
क्योकि बोल – चाल के बंद होते ही,
सुलह के सारे दरबाजे बंद हो जाते है।
गुस्सा बुरा नहीं है।
गुस्से के बाद आदमी जो बैर पाल लेता है, वह बुरा है।।

facebooktwittergoogle_pluslinkedinmail
Share:
Category:Lifestyle, Thoughts
PREVIOUS POST
किसी के गुजर जाने से, किसी का गुजारा नही रुकता
NEXT POST
फूलों की सुगंध केवल वायु की दिशा में फैलती है

Grab your quote

0 Comment

LEAVE A REPLY